jagranjunction:very sad love story in hindi language| Short sad story in hindi-Filmibeat

Very Sad Love Story in Hindi Language:

Image result for flower

  • आप कहानी स्कूल से प्यार करते हैं शूरी होती है, जो कॉलेज पुरी होन के बुद्ध खटम होती है।
    बाट स्कूल समय की है। माई अपनी 10 वीं की पढ़ाई पूरी करके 11 वीं के लिय कीसी या स्कूल
    मैं aa gai थाई। वहन मुज साब नाय सहपाठियों मील अनही माई से एक वो लडका भी था,
    jisse main na kabi phle mili thi या na hi koi baat hui थाई। बस phli br उपयोग कक्षा मुझे drwaje
    पे खड़ा देखा या देखते हाय njrein jhuka li bs ye sochkr ki ye kya sochega? एक से माई
    अंजान थाई हमें स्कूल या कक्षा माई। हम डिन के बाद मैने केबी भो हम हमसे प्यार करते हैं
    हाय wo mjhe yaad था। कुच समय बाद कक्षा मुझे कुच गेम्स यूकी नज़र मुज पे के लिए
    पीडीआई या बार बार पाध हाय ri थी। हम दीन माइन भी उपयोग करते हैं बहत बार देखा या शायद हम हमें डिन करते हैं
    के बुड से मुजे एचा एलजीएन एलजीए। फिर कुच दीन बुरी मेरी डोस्ट ने मुज से पूचा तुजहे क्लास
    मैं koun ldka shi lgta है। मेरे मुह से एक डम से यूसी का नाम निकला, मुझ कुद नि पट्टा
    था हम समय यूका नाम काइज़ या क्युन आ गया बस मुह से। बस यी दी था या दीन
    15 अगस्त का था जेबी मेरी डोस्ट एन जाकर हमें ldke ko bol diya ki माई psnd krti hu का उपयोग करें।
    अब वो लडका मुज देखना चहता था तुम सोचकर की देख टू लू जो पसंद करती है वो एच खान।
    और वू लड्डी भूट दो दरी हुई खादी थी जो हमें ldke ke dekhte hi whan se Bhagti hui ghr
    aa gai या rone lgi ki uski dost ne jakar us ldke ko kyun bol diya …
  • हम ldke se phle na hi maine kabhi kisi ko acha bola था या na hi koi acha lga था say isliye
    माई डार गाई हम दीन के बुड से वो लडका थोडा आधा बुद्ध या यूने डोस्टी क्रने को बोला।
    क्या हमारे लिए ldki ko to time dosti krne me bhi dar lgi thi par fir bhi kar li dheere-dheere hum dost
    बाने बाट क्रने लीज। वू मात्र लिय नोट्स लता था। Na uske doston ko kuchh pta tha na hi
    केवल दोस्टन को पट्टा था। हम डोनो हाय जांते द हू डोस्ट प्रतिबंध चुक हैन। वाह मेरी मदद कर्ता
    मुझे पढाई हमारे समय मेरी हेल्थ शि निधि रती थी टू वोहुत हेल्प क्रेट था। हम डोनो हाय दोस्ती है
    को चिप राहे। चिपपाट-चिपते कब सब डोस्टन को पट्टा लग गया हमे खुद समज नि आया।
    जिस ताराह से बातेन एसबीको पट्टा लिगी सब डोस्ट नारज ह्यू। कुचोन को सिकत था लड्की ने आकर उर्फ ​​है
    आचा डोस्ट चेन लीया। क्युनकी जिन डोस्टन को सब्त पट्टा रता था अनहे इति बीडी बाट एन बीटीई। हमें पार करें
    समय बट्टाने जय कुछ भी भी नहीं हम दानो हाय नहीं जांते हो दोस्ती हो या प्यार है, कुच को था
    आप ldki jabardasti iske piche pdi है …
  • हम किसी को भी कुछ भी बोल बेस एसा कुच भी है सहपाठी है बस डोस्ट है कहेटे गेए।
    इनी सब के साथ हूरी 12 वीं टीके की पधई दर्द से हुई। Uske बुरा हमें ldke ne socha ab wo mujhe
    कार्के दोस्ती से आगे के लिय बोलेगा का प्रस्ताव दें। बस usne yhi baat apne ek dost se share kar li us dost
    ne उपयोग btaya wo ldki pandit है या तु राजपूत। हमें दीन समज आया आप एसबी भी देखना होता है प्यार
    क्रने से फ्ले। कुच कदम आज बदाते भी से लडके की परिवार की स्थिति बहत खरीब चली थी,
    jisme hum apne liye kuch sochte bht galat hota। Uske ghar pe pta lga doston se ek dost है या
    डोनो एक दुसर को पसंद भी क्रेट एच स्थिति या जयादा बड़ाद गाई। अन साड़ी चेज़ोन को देखकर
    humne apni भावनाएं apne भावनाएं wahin pe rok liye jo bas hme alag hone pe, door hone pe
    माजबर कर गेए। मेन सोचा दोस्ती मुझे राकर मशकिल समय है मुझे हमें ldke ka sahara ban jaun या
    भई य मांजुर था का प्रयोग करें। Takleef करने के लिए बहत हुई पर घर walon के लिय कर लीया, समय niklta गया
    मुशकिलेन काम होमी गाई दोस्ती भी चुट्टी गाय पी प्यार किमी निया हुआ। लद्दा दरवाजा होना छट्टा था उपयोग
    lgta था wo दरवाजा हो जायेगा। दोस्ती से भी सिड ldki aage badh jaygi kisi या ko apni lyf me jgah de
    degi khi na khi ldke ka sochna भी shi tha wo us ldki k liye apne se better या uska humesa sath de
    पेन वाल मिल जयये कोई छरा था। Par wo ldki us ldke k alawa kisi या ko apna bna hi ni pai kisi ko
    Uski jgah डी hi nhi pai kbi। टाइम निकलाटा गया डोनो हाय हम बीटेक क्र राहे द डोनो हाय अलाग जेएच
    । कही बाट होती थी हम बिख कबी लम्बे समय ले कुच पट्टा नी रता था एक-दुसर के मुझे नंगे।
    Sbke bichh uske doston ne या khi n khi kuch mere janne walon ne hum dono se hi alag-alag
    baatein krni start kr di hmare hi bare me। चीज़िन bigdti gai par dil manne ko tayar hi nhi hota था।
    लद्का साथ मुझे राणा भी चहता था दरवाजा होना भी छट्टा था यूने केबी कुच नि भी बोला। ना हाय माई
    कुच पूच पाई क्युनकी चेज़िएन छट चुकी थी वो जो कनेक्शन था वू टाइम के साथ एक अंतर मुझे
    बदल रा था था। हर दिन हर साल बीटेक का बेस यी सोचकर निकल जाटा था सयाद वो भुल चुका होगा
    दोस्ती को है प्यार क्या है और बुद्ध चुका होगा अपनी लाइफ मुझे।

 

Leave a Comment